पूरी दुनिया में अनचाही प्रेग्नेंसी रोकने और STI से बचाने के लिए कंडोम का इस्तेमाल किया जाता है। डॉक्टर्स का भी यही कहना है कि कंडोम सबसे बेस्ट कॉन्ट्रासेप्टिव ऑप्शन है। कुछ हद तक ये फैक्ट सही भी है, पर क्या आपको पता है कि कंडोम के कुछ साइड इफेक्ट्स भी होते हैं। जी हां, ये पूरी तरह से सक्सेसफुल नहीं है, लेकिन इसके अलावा भी कुछ ऐसी बातें हैं जो कंडोम को बेस्ट नहीं बनातीं।

कंडोम से वैसे तो 97% सक्सेस रेट मिल सकता है, लेकिन एक रिसर्च मानती है कि इसका सक्सेस रेट इससे भी कम है। ऐसा इसलिए क्योंकि कई लोग इसका सही से इस्तेमाल ही नहीं कर पाते हैं। ऐसे में कंडोम का काम नहीं हो पाती है। अगर इसके साइड इफेक्ट्स की बात करें तो वो ये होंगे...

कंडोम इस्तेमाल करने के तीन साइड इफेक्ट्स

आपको शायद इसके बारे में पता ना हो, लेकिन कई लोगों को लेटेक्स से एलर्जी होती है। लेटेक्स वो सब्सटेंस होता है जिससे दुनिया भर में कंडोम बनाए जाते हैं। ये एलर्जी काफी कॉमन है और गायनेकोलॉजिस्ट्स के पास आए दिन इस तरह के केस आते रहते हैं।

लेटेक्स एलर्जी

कंडोम के इस्तेमाल से सेक्सुअल सेंसिटिविटी कम महसूस होती है। हालांकि, ये कोई साइंटिफिक फैक्ट नहीं है। फिर भी कई लोग इसकी शिकायत करते हैं। ऐसे कपल्स जो कंडोम के साथ-साथ अन्य कॉन्ट्रासेप्टिव तरीके भी इस्तेमाल करते हैं

सेक्सुअल प्लेजर में कमी

ये शायद कंडोम की सबसे बड़ी खामी कही जाएगी। ऑयल बेस्ट ल्यूब्रिकेंट्स जैसे वैसलीन, ऑयल, कुछ तरह के जेल आदि कंडोम के साथ इस्तेमाल नहीं किए जा सकते हैं। कई मामलों में महिलाओं को नेचुरल ल्यूब्रिकेशन की कमी महसूस होती है।

ऑयल बेस्ट ल्यूब्रिकेंट्स के साथ नहीं कर सकते इस्तेमाल