अडानी समूह (Adani Group) की दो कंपनियां बिक गई है। टॉप ग्लोबल इक्विटी फर्म बेन कैपिटल (Bain Capital) ने अडानी समूह की कंपनी अडानी कैपिटल और अडानी हाउसिंग का अधिग्रहण कर लिया है।

Image Source Google

इस अधिग्रहण को लेकर दोनों कंपनियों के बीच समझौता हो गया है। इस डील के तहत बेन कैपिटल अडानी कैपिटल और अडानी हाउसिंग की 90 फीसदी हिस्सेदारी हासिल कर लेगी। जबकि 10 फीसदी हिस्सेदारी मैनेजमेंट, एमडी और सीईओ गौतम गुप्ता के पास रहेगा।

Image Source Google

इस डील के बाद अडानी की नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी की हिस्सेदारी बेन कैपिटल के पास पहुंच गई है। अमेरिकी फर्म ने 1440 करोड़ रुपये में यह हिस्सेदारी खरीदी है। वहीं अडानी फाइनेंशियल सर्विस का कुल वैल्यूएशन 1600 करोड़ रुपये की है।

Image Source Google

इस डील के बार में गौतम अडानी ने कहा कि वो बहुत खुश हैं कि बेन कैपिटल जैसे निवेशक कंपनी के साथ जुड़े हैं। वहीं बेन कैपिचल ने कहा कि उन्हें अडानी कैपिटल की क्षमता पर पूरा भरोसा है।

Image Source Google

हिस्सेदारी के बाद निवेशगौरतलब है कि साल 2017 में अडानी समूह ने अपना शैडो बैंकिंग बिजनेस शुरू किया था, लेकिन अब अडानी परिवार इस कंपनी ने अपनी पूरी हिस्सेदारी बेच रहा है। बैन कैपिटल ने अडानी परिवार की सौ फीसदी हिस्सेदारी खरीद ली है।

Image Source Google

जबकि गौरव गुप्ता अपनी हिस्सेदारी को बरकरार रखेंगे। वो कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ के पद पर बने रहेंगे। अडानी समूह की इन दोनों कंपनियों में हिस्सेदारी हासिल करने के बाद बेन कैपिटल इस कंपनी में 120 करोड़ रुपये का अतिरिक्त निवेश करेगी।

Image Source Google

कंपनी को आर्थिक मजबूती देने के लिए बेन कैपिटल नॉन कनवर्टिबल डिबेंचर के तौर पर कंपनी को 5 करोड़ डॉलर का लिक्विडिटी लाइन भी उपलब्ध करवाएगी। गौरतलब है कि हिंडनबर्ग की रिपोर्ट आने के बाद से अडानी समूह अलग-अलग तरीके से फंड जुटाने की योजना पर काम कर रहा है।

Image Source Google

रिपोर्ट में अडानी समूह के कर्ज से लेकर कंपनी के वित्तीय सेहत पर सवाल उठे थे । इस रिपोर्ट के बाद से कंपनी कर्ज को लगातार कम करने की कोशिश में जुटी है।

Image Source Google